यह किताब जो सचमुच हमारी अंदरूनी दुनियां के बाहर की है. इसे डाउनलोड करे एवं स्वंय जागृति हेतु इसे पढ़े!

रैलियन आंदोलन

क्या होगा अगर, हर साल जो हजारो उडन तश्तरीयाँ हमें दिखाई देती है, उन्हीं हजारो उडन तश्तरीयों में से किसी एक उडन तश्तरी के 'चालक' कि वास्तविक मुलाक़ात पृथ्विवासी व्यक्ति से हों? और क्या होगा अगर, इस पृथ्विवासी व्यक्ति को उस अंतरालीय प्राणी ने पृथ्विपर बसने वाले जीवन एवं उसके विचाराधीन भविष्य के बारे में रहस्यपुर्ण ऐतीहासिक ब्यौरा दिया? और क्या होगा अगर, यह सब जानकारी को कुछ दशकों पहले प्रकाशित किया गया था और वैज्ञानिकों एवं इतिहासकारों सहित हजारों लोगों के द्वारा इसे स्वीकृत भी किया गया था?
क्या आपको अच्छा नहीं लगेगा ऐसी कोई किताब पढने?
इस वेब साइट के ज़रिए आप खुद के लिए मिला हुवा असाधारण 'संदेश' पढ़ने का अवसर प्राप्त करते है जो दुर सितारों से भी आगे क़ी दुनिया से आया हुवा है.
27 साल की उम्र में क्लॉड वोरील्होन (अब 'रैल' के रूप में जाने जाते है) उस दौर में क्लॉड वोरील्होन एक जुनूनी रेस कार ड्राइवर और पत्रकार के रूप में अपने जीवन को व्यतीत कर रहे थे. यह उनका जीवनयापन १३ दिसंबर १९७३, को पुरी तरीक़े से बदल गया जब उनकी मुलाक़ात उडन तश्तरी (अंतरालीय जिव) से हुईं इस वाक्ये ने उनकी जिंदगी हमेशा-हमेशा के लिए बदल के रख दी. आगे उस दिन के बाद, वो दुनिया का दौरा करते हुए अपने आश्चर्यजनक अनुभव को पत्रकार संघ एवं विविध सम्मेलनों में साँझा करने लगे.
रैल को सुनिए जिसमें उन्होंने पहिली मुलाक़ात का विस्तार से वर्णन किया है.
उनकी इन अलौकिक मुलाकातों के दौरान, रैलने संदेशों की एक श्रृंखला प्राप्त कि जो वास्तविक मानव जीवन के सभी पहलुओं पर गहरा असर छोड़तीं है. आपकी दिलचस्पी चाहे प्राचीन इतिहास, आधुनिक विज्ञान, उडन तश्तरी, धार्मिक ग्रंथों या यहां तक ​​कि कल्पित विज्ञान में निहित हों, थोड़ा पढ़ने के लिए समय दे, आप इन्हें पढ़ के नए परिप्रेक्ष्य ज़रुर हासिल करेंगे.
यह वीडियो मुख्य टिप्पणीयो में से कुछ का सार है जिसें रैल को अवगत कर दिया था

वीडियोस